Monday, June 18, 2018

“विरह के नांच” ( कहानी )

भौजी खाना बना रहीं थीं.तब तक पड़ोस की गीता आ गयी.."ए भौजी.आज बड़ा उदास हो,का बात है.आज भइया के ढेर याद आवत है का.आँय'...

बी.टेक्स वाले दुल्हनिया ले जाएंगे ?

आज छत पर धूप पसरी  है.अखबार लेकर बैठा हूँ.आसमाँ भी साफ़ है.पक्षी भी उड़ रहे..नावें भी ठीक से चल रहीं.लेकिन कमबख्त मेरा दिल बैठा...

जीवन संगीत

8,357FansLike
1,328FollowersFollow
1,616FollowersFollow
27,833SubscribersSubscribe

EDITOR'S PICK

Social Media

Youth अड्डा

गाँव-जवार

LATEST ARTICLE

हमारा समाज