Monday, June 18, 2018

Jiddu Krishnamurti

Jiddu Krishnamurti ने कहा..मैं शिष्य गण चाहता ही  नहीं..जिस क्षण आपने किसी व्यक्ति का अनुयायी बनना स्वीकार किया उसी समय आपने सत्य का अनुगमन करना छोड़ दिया.आगे कहते हैं. कि सत्य एक पथहीन भूमि है..और उसके पास आप किसी मार्ग से,धर्म या पंथ से पहुंच नहीं सकेंगे,सत्य संगठित नहीं किया जा सकता,न कोई संगठन लोगों को जबरदस्ती से किसी विशिष्ट पथ पर चलाने के लिए निर्माण किया जाए,..सत्य को नीचे नहीं उतारा जा सकता,उसके बदले व्यक्ति को ही उस उंचाई तक पहुंचने का प्रयास करना चाहिएं...आइये अध्यात्म की ओर सीरिज में हम मिलते हैं भारत के  उस महान दार्शनिक  JIDDU Krishnamurti और उनके महान वचनों से जो हमें स्वयं की खोज में अवश्य सहायक होंगे

No posts to display

सर्वाधिक लोकप्रिय

varanasi news,ustad bismillah khan shahnai,banaras samachar

उस्ताद..आज आपके साथ थोड़ा बनारस भी बिक गया

सादर प्रणाम   उम्मीद है आप जहाँ भी होंगे सकुशल होंगे..देखिये न आज आपके बनारस में सूरज दिल खोलकर निकला है,हवा पंख खोलकर बह रही...
mantua pinkiya, , love letter,valentaine day

मंटूआ-पिंकीया की असली प्रेम कहानी

मौसम में हल्की नमी थी और हवा में बंसत की सुवास.आसमान में देखते ही मन उड़ने लगता था.मानों वो चिल्ला-चिल्ला के कह रहा हो."अब...
insurance,dil ka insurance,health

बी.टेक्स वाले दुल्हनिया ले जाएंगे ?

आज छत पर धूप पसरी  है.अखबार लेकर बैठा हूँ.आसमाँ भी साफ़ है.पक्षी भी उड़ रहे..नावें भी ठीक से चल रहीं.लेकिन कमबख्त मेरा दिल बैठा...
whatsapp success story

WhatsApp हमें क्या सिखाता है ?

सपनों में उलझी है जिंदगी.हम सुलझा रहे हैं दिन-रात...आ रहे हैं,जा रहे हैं,भाग रहे हैं,जाग रहे हैं.कुछ देर बाद सुलझन की एक डोर में...
diploma

डिप्लोमा इन दुनियादारी 

गाँव के स्कूल में एक मास्टर साहेब थे.नाम था तिरलोचन तिवारी उर्फ़ मरखहवा मास्टर.ज्ञान को हमेशा कपार पर उठाये रहते थे.माघ के जाड़े में...