Tuesday, July 16, 2024

डिप्लोमा इन दुनियादारी 

गाँव के स्कूल में एक मास्टर साहेब थे.नाम था तिरलोचन तिवारी उर्फ़ मरखहवा मास्टर.ज्ञान को हमेशा कपार पर उठाये रहते थे.माघ के जाड़े में...

गोरिया के गाल बा ,बिहार में बवाल बा

"गोरिया के गोरे गोरे गाल, बिहार में बवाल कइले बा." बहुते छोटे थे हम, मने एकदम बबुआ टाइप....फोंफी और समपापड़ी के लिये भी रोने लगते...

जीवन संगीत

एक माइल्ड सा दर्द !

सब्जी की दुकान पर खड़ा होते ही एक मीडिल क्लास आदमी सबसे पहले इकोनॉमिस्ट बन जाता है। ग़लती से दो-चार सौ की...
8,983FansLike
1,328FollowersFollow
1,862FollowersFollow
84,800SubscribersSubscribe

EDITOR'S PICK

Social Media

Youth अड्डा

गाँव-जवार

LATEST ARTICLE

अश्लील हरकतें ना करें……!

चढ़ाई बहुत लंबी हो। रास्ता गुमनाम हो। दूर-दूर तक कोई आता-जाता दिखाई न दे। बड़ी मुश्किल से कुछ...

हमारा समाज